My Cart :

0 item(s) - Rs. 0.00
You have no items in your shopping cart.

0

My Cart :

0 item(s) - Rs. 0.00
You have no items in your shopping cart.

0

More Views

Gita Press Srimad Valmiki Ramayana (Ramchritmanas) Code 0075

Availability: In stock

Rs. 250.00

Quick Overview

श्रीमद्रामायण को वेदतुल्य प्रतिष्ठा प्राप्त है। धराधाम का आदिकाव्य का होने से इस में भगवान के लोकपावन चरित्र की सर्वप्रथम वाङ्मयी परिक्रमा है। इसके एक-एक श्लोक में भगवान के दिव्य गुण, सत्य, सौहार्द्र, दया, क्षमा, मृदुता, धीरता, गम्भीरता, ज्ञान, पराक्रम, प्रज्ञा-रंजकता, गुरुभक्ति, मैत्री, करुणा, शरणागत-वत्सलता जैसे अनन्त पुष्पों की दिव्य सुगन्ध है।
MAHARSHI VALMIKI
Gita Press
OR

Details

श्रीमद्रामायण को वेदतुल्य प्रतिष्ठा प्राप्त है। धराधाम का आदिकाव्य का होने से इस में भगवान के लोकपावन चरित्र की सर्वप्रथम वाङ्मयी परिक्रमा है। इसके एक-एक श्लोक में भगवान के दिव्य गुण, सत्य, सौहार्द्र, दया, क्षमा, मृदुता, धीरता, गम्भीरता, ज्ञान, पराक्रम, प्रज्ञा-रंजकता, गुरुभक्ति, मैत्री, करुणा, शरणागत-वत्सलता जैसे अनन्त पुष्पों की दिव्य सुगन्ध है। मूल के साथ सरस हिन्दी अनुवाद में दो खण्डों में उपलब्ध। सचित्र, सजिल्द।

Additional Information

HSN Code 4901
Author MAHARSHI VALMIKI
Language Hindi
Length 19 cm x 28 cm
Pages 928
Binding Paperback
Publisher Gita Press
Devotional & Spiritual : Hinduism Ramcharit Manas
SKU DASGITA75
Bar Code CODE-75

Write Your Own Review

You're reviewing: Gita Press Srimad Valmiki Ramayana (Ramchritmanas) Code 0075

How do you rate this product? *

  1 star 2 stars 3 stars 4 stars 5 stars
Price
Quality